"काव्य साहित्यिक विधाओं में सर्वाधिक सशक्त विधा है। काव्य यह युद्ध भूमि में वीरता का संचार करता है तो वसंत ऋतु में हृदय में प्रेम को उद्दीप्त करता है। यह मां की लोरी में नींद का उपहार बन जाता है तो धर्म-चिंतन में धार्मिक महाकाव्य में ढल जाता है। अतः जो काव्यसृजन से जुड़ा है वह विशिष्ट ह��ै। इस विशिष्टता के साथ प्रत्येक कवि को अपना दायित्व समझते हुए सृजन करना चाहिए ताकि वह देश और समाज को जीवन के कठोर विषयों पर भी कोमलता से विचार प्रदान कर सके।" यह अपने अध्यक्षीय उद्बोधन मे मैंने कहा। .... Achievement, Word Search Puzzle, Words, Post, Blog